श्रीमती वसुंधरा राजे सरकार की भामाशाह योजना ने महिलाओं को दी हौसलों की उड़ान

2

जब राधा गुड्डे गुड़ियों से खेल रही थी, उसी वक्त उसकी बुआ ने पुकारा, ‘ओ राधा, तुम्हारे बापू बुला रहे हैं|’ ‘खेलने दो ना बुआ| मुझे गुड़िया का ब्याह रचाना है,’ राधा ने कहा| ‘अब गुड़िया का ब्याह नहीं महारानी, अब तेरे हाथ पीले होंगे,’ बोलती हुई बुआ राधा को खींचते हुए घर की बैठक में ले गई| वहां बहुत से अनजान चेहरे देखकर राधा ठिठक कर रह गई और अपनी बुआ के पल्लू के पीछे अपनी गुड़िया को लेकर छुपने लगी|

बापू ने लाड़ से पुकारा, ‘इधर आ बिटिया|’ डरती हुई राधा बापू के पास गई| बापू ने कहा, ‘यह है राजेश्वर| इससे तेरा ब्याह होवेगा|’ 9 साल की राधा ने सामने बैठे 21 साल के राजेश्वर को देखा| यह सारी बातें याद कर 49 साल की राधा कुमावत आज भी कांप उठती है क्योंकि खेलने-पढ़ने की उम्र में थोपे गए बाल विवाह ने उसके जीवन को नरक बना दिया था | उम्र में बड़े पति की उपेक्षा और सामाजिक बंधनों की जकड़ में बरसों पिसती रही|

राधा कुमावत को हमेशा यह कसक रही कि यदि उसके बापू ने उसे पढ़ाया लिखाया होता, तो बेमेल बाल विवाह के दलदल में ना धकेला होता| कम उम्र में ही एक के बाद एक कई बच्चों की माँ बना चुकी राधा अपने बच्चों का भविष्य संवारना चाहती थीं लेकिन पुरुष-प्रधान पारिवारिक व्यवस्था में उसकी भूमिका चूल्हे-चौके और बच्चा जनने तक ही सीमित रह गई थी| अपनी माँ की तरह| राधा की माँ के पास, बाकी भारतीय औरतों के जैसे, वित्तीय स्वतन्त्रता नहीं थी| शायद इसीलिये कभी अपनी बेटियों के समर्थन में आवाज़ नहीं उठा पायीं|

श्रीमती वसुंधरा राजे की सरकार ने राधा और उस सरीखी अन्य महिलाओं के हौसलों को नई उड़ान भरने का मौका दिया तथा वित्तीय स्वतंत्रता प्रदान की|

श्रीमती राजे द्वारा प्रारंभ की गई भामाशाह योजना महिला सशक्तिकरण में एक महत्वपूर्ण कदम है| भामाशाह योजना परिवार की प्रधान महिला को सशक्त करते हुए उसे परिवार की मुखिया बनता है| इस योजना के तहत सरकारी योजनाओं की राशि परिवार की महिला मुखिया के खाते में पारदर्शी रुप से हस्तांतरित हो जाती है|

भामाशाह योजना किसके लिए है ख़ास

● मां, पत्नी और बहन (21 वर्षीय होना अनिवार्य है)
● बच्चों की स्कॉलरशिप का पैसा घर की महिला मुखिया के खाते में
● घर बनाने का पैसा प्रधान स्त्री को मिलेगा
● हैल्थ इंश्योरेंस का पैसा मुखिया महिला को

भामाशाह योजना की ख़ासियत

● प्रदेश की महिलाओं के खातों में सरकारी योजनाओं का पैसा
● राशन कार्ड
● जननी सुरक्षा योजना
● अन्नपूर्णा योजना
● मनरेगा जॉब कार्ड
● इंदिरा आवास योजना
● जननी सुरक्षा योजना
● राजश्री योजना
● इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना
● भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना
● राजस्थान सामाजिक सुरक्षा योजना
● सरकारी छात्रवृत्तियां

भामाशाह योजना का लाभ उठाकर आज राधा ने अपने दो बच्चों को तकनीकी शिक्षा के लिए नामांकित करवाया, दो बेटियों को शिक्षिका बनाया एवं सबसे छोटी बेटी का नामांकन प्रतिष्ठित संस्थान में करवाया| यह राधा कुमावत एक नहीं; ऐसी सैकड़ों राधा राज्य में हैं जो माननीया मुख्यमंत्री को धन्यवाद दे रही हैं|

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s