जन कल्याण शिविर: ग्रामीण राजस्थान में समस्याओं का बेहतर समाधान

ग्रामीण क्षैत्र के लोगो की समस्याओं का समाधान राजस्थान सरकार का एक मुख्य उद्देश्य है और इस उद्देश्य को  ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे जी ने  “पं. दीनदयाल उपाध्याय जनकल्याण शिविर” योजना की शुरुआत की।

योजना का उद्देश्य :राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को होने वाली दिन प्रतिदिन की समस्याओं को हल करने के लिए इस योजना की शुरुआत की गई है। योजना के अन्तर्गत जन समस्याओं के समाधान के लिए शिविरों का आयोजन किया जाता है। इन शिविरों का आयोजन प्रत्येक गावं में पंचायत स्तर पर किया जाता है।

इस कार्यक्रम की शुरुआत राजस्थान सरकार द्वारा 4 अक्टूबर 2016 को  पं. दीनदयाल उपाध्याय जी के जन्मदिवस की 100 वीं वर्षगांठ पर की गई । इस योजना की घोषणा मुख्यमंत्री ने बजट भाषण -2016-17 में की थी। ग्राम पंचायतों में होने वाले इन जनकल्याण शिविरों में 17 से ज़्यादा विभागों के अधिकारी मौजूद रहते है।

ये विभाग है :

1.पंचायती राज विभाग

2.खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग

3.सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग

4.वन एवं पर्यावरण विभाग

5.चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग

6.योजना विभाग

7.महिला एवं बाल विकास विभाग

8.श्रम विभाग

9.कृषि विभाग

10.पब्लिक हेल्थ एंड इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट

11.विधुत वितरण निगम

12.सार्वजनिक कार्य विभाग

13.खंड- स्तरीय जनजाति विभाग

14.राज्य के जिला स्तरीय राजस्व विभाग

इन जनकल्याण शिविरों का आयोजन मुख्य शहरों जैसे -अलवर ,अजमेर ,बारां, बाड़मेर ,भरतपुर,भीलवाड़ा,बीकानेर ,बूंदी ,डूंगरपुर ,दौसा ,झालावाड़, जयपुर ,जालोर ,धौलपुर ,कोटा और उदयपुर में किया जाएगा।  

अब तक इस योजना के अन्तर्गत लगभग 9890 ग्राम पंचायतों में जनकल्याण शिविरों का आयोजन किया जा चुका है

 

 

जनकल्याण शिविरों की आवश्यकता

1.इन शिविरों का आयोजन इसलिए किया जाता है ताकि ग्रामवासियों कि शिक्षा और स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं का समाधान किया जा सके।

2.लोग विभिन्न योजनाओं के बारें में भी  जानकारी प्राप्त कर सकते है।

3.इन कैम्प का आयोजन प्रत्येक शुक्रवार को सुबह 9:30 बजे होता है ।

4.ग्रामवासी चिकित्सा जाँच और दवाओं का लाभ भी प्राप्त कर सकते है ।

शिविरों में उपलब्ध सुविधाएं

1.मुफ्त चिकित्सा जाँच और दवाएं

2.आंगनबाड़ी विधार्थियों को नि:शुल्क शिक्षण सामग्री वितरण

3.पौषक आहार, टीकाकरण, किताबें, खिलौने, और दवाएं

4.जल स्वावलंबन के अन्तर्गत स्थानीय निकाय निर्माण

5.भामाशाह योजना, भामाशाह स्वास्थ्य बिमा योजना और जननी सुरक्षा योजना में नामांकन

6.मनरेगा प्रगति पत्र

उपरोक्त सुविधाओं के अलावा भी ऐसे कई लाभ है जो जन कल्याण शिविरों से प्राप्त किये जा सकते है

1.गांवों में स्वच्छता और अच्छी सेहत को बढ़ावा देने के लिए मुफ्त दवाइयां और स्वच्छता सामग्री का वितरण किया जाता है।

2.विधालय में प्रवेश, छात्रवृति के लिए पंजीकरण या नाम में बदलाव संबंधी कागजी कार्यवाही।

3.कृषि सम्बन्धी कार्यों को बढ़ावा देने के लिए जन-जाती क्षेत्रीय विकास योजना, भामाशाह पशु बीमा जैसी योजनाओं का क्रियान्वन इसके अलावा जीवन-यापन के दुसरे विकल्प की जानकारी।

4.गांवों को साफ और हरा-भरा रखने के लिए पौधारोपण।

5.ऑनलाइन मोनिटरिंग सिस्टम की समीक्षा।

6.ग्रामीण गौरव पथ और मिसिंग लिंक रोड की प्रोग्रेस रिपोर्ट की समीक्षा ।

राजस्थान सरकार का मुख्य उद्देश्य है की राज्य के सभी विभाग और योजनाओं की जानकारी राज्य के लोगो तक आसानी से पहुँच सके।

समाज के हर तबक़े तक पहुँच बनाते हुए उन्हें कुशल और पारदर्शी शासन उपलब्ध करवाने के लिए राजस्थान सरकार सदैव प्रयासरत है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s