द्रव्यवती नदी प्रोजेक्ट : निखर रही जयपुर की सुंदरता

dravyvati-river-project

द्रव्यवती नदी जो कि नाहरगढ़ किले की तलहटी और ढूंढ नदी के बीच फैली 47 किलोमीटर लंबी नदी है| पिछले 100 वर्षो में अनेक स्थानों के प्रदूषित पानी, कचरा, अपशिष्ट, अतिक्रमण और डेबरी ने इस नदी को व्यापक क्षति पहुँचाई है, जिसके कारण इसने एक गंदे नाले का रूप ले लिया है | अब इसे अमानीशाह नाला के नाम से जाना जाता है|

इसलिए इस नदी को नया जीवन देने के लिए राज्य सरकार ने टाटा प्रोजेक्ट्स  और शंघाई अरबन कंस्ट्रक्शन ग्रुप को रु.1,676 करोड़ की परियोजना के लिए अनुबंध किया है जिसे अक्टूबर 2018 तक पूरा किया जाना है|

यह एक अग्रणी प्रोजेक्ट है जो कि भारत के शुष्क व बंजर परिदृश्य में किसी नदी के कायाकल्प का पहला प्रयास है। कायाकल्प के बाद यह नदी एक इको-फ्रेंडली पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगी तथा जयपुर में बाढ़ से बचाव करेगी|

जयपुर शहर की जीवन रेखा रही द्रव्यवती नदी को अतिक्रमण, प्रदूषण और अपशिष्ट से मुक्त कराकर इसे पर्यटन गतिविधियों के बड़े केन्द्र के रूप में विकसित करने के लिए 47.5 किमी लम्बी इस नदी का रिवर रिजुविनेशन प्रोजेक्ट के रूप में सौन्दर्यकरण किया जा रहा है|

इस परियोजना के तहत गंदे पानी को साफ करने के लिए 170 एमएलडी के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट, वॉक-वे, जॉगिंग पार्क, ईको पार्क, सिटिंग एरिया, चैक डेम आदि बनाए जाएंगे। इस परियोजना के अंतर्गत लगभग 16,000 पेड़ लगाए जाएंगे और 65,000 वर्ग मीटर का हरित क्षेत्र विकसित किया जाएगा|

इसमें 100 से अधिक ऐसी संरचनाओं का निर्माण किया जायेगा जिससे पूरे वर्ष नदी में पानी की उपलब्धता बनी रहे |

प्रोजेक्ट की कुछ प्रमुख विशेषताएँ:  फ्लोटिंग गार्डन, वाणिज्यिक गतिविधियों के लिए जगह , कल्चरल प्लाज़ा, फैशन स्ट्रीट्स, इको-पार्क, जॉगिंग पार्क, सामुदायिक उद्यान और प्रकृति ट्रैक शामिल हैं|

अब तक द्रव्यवती नदी परियोजना में 650 करोड़ रुपये से अधिक के कार्य हो चुके हैं और 47 किमी लंबी इस नदी पर पचास फीसदी तक का कार्य हो चुका है|

Janprahri-_Express_Dravidian-River-696x363

द्रव्यवती नदी परियोजना से गुलाबी नगर की खूबसूरती में चार-चाँद लगने के साथ साथ शहर को स्वच्छ और शुद्ध वातावरण मिलेगा और शहर के आर्थिक विकास को नई रफ़्तार मिलेगी |

राजस्थान सरकार के इस प्रयास से द्रव्यवती नदी का नया स्वरूप न केवल जयपुर का पुराना वैभव लौटाएगा बल्कि शहरवासियों को खुले, हरे-भरे वातावरण में शुद्ध हवा भी मिल सकेगी |

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s